फाड़ दे इस चूत को

Faad de is chut ko

हाय दोस्तो, मेरा नाम है किटी और मैं 27 साल की डिवोर्स्ड हूँ।

मुझे सेक्स बहुत पसंद है। मुझे तो जैसे बस हमेशा मौका चाहिए होता है, सेक्स करने का।

मुझे अलग-अलग मर्दों को सिड्यूस करना और फिर सेक्स करना बहुत पसंद है। मेरा बूब साइज़ है 34, जिसकी वजह से मर्द जल्दी सिड्यूस हो जाते हैं।

ये कुछ दिन पहले की बात है। मैं उस दिन घर पर बहुत गरम हो रही थी तो मैंने सोचा बाहर जाकर किसी पर ट्राइ मारती हूँ। मैं घर से बिना ब्रा पहने निकल गई और एक ढीला सा टॉप पहन लिया।

दोपहर का समय था तो मार्केट में ज़्यादा भीड़ नहीं थी। मैंने एक गारमेंट शॉप देखी, जिस पर एक लड़का बैठा था। करीब 27-28 साल का होगा, मस्क्युलर बिल्ट था।

मैं उस शॉप में घुस गई और उस लड़के से बोला – टी-शर्ट्स दिखाइए।

वो मुझे टी-शर्ट्स दिखाने लगा। मैंने उनमे से 2 टी-शर्ट्स चूज़ किए जो काफ़ी पारदर्शी थे।

उन्हें उठाकर मैंने उससे पूछा – ट्राइ रूम कहाँ है?

उसने बोला – उस साइड है।

मैं ट्राइ रूम में गई और मैंने वो पारदर्शी टॉप पहन लिया।

अब क्या था… वो टॉप नेट का था जिस वजह से मेरे चुचे पूरी तरह से दिख रहे थे।

मैं तो यही चाहती थी।

उसे पहन कर मैंने ट्राइ रूम में लगे बल्ब को होल्डर से थोड़ा सा लूस कर दिया।

अब वो बल्ब जलना बंद हो गया। मैंने धीरे से शॉपकीपर को आवाज़ लगाई – भैया, ये बल्ब फ्यूज़ हो गया।

वो बोला – आप टॉप पहन कर बाहर आ जाइए, यहाँ बाहर आईने में देख लीजिए।

मैंने कहा – ठीक है।

मैं वो पारदर्शी टॉप पहन कर एकदम से बाहर आ गई।

उसकी नज़र जैसे ही मुझपर पड़ी वो एकदम सहम सा गया और मेरे चुचों को घूर-घूर कर देखने लगा।

मैंने ऐसे रिक्ट किया जैसे मुझे पता ही नहीं कि वो मुझे देख रहा है।

मैं आई और आईने के सामने खड़ी हो गई। वो लगातार मेरे चुचों को ही देखे जा रहा था।

मेरा आधा जिस्म दिख रहा था, जिससे उसका चेहरा लाल सा होने लगा।

मैं उसकी तरफ पलटी और बोली – ये दूसरा टॉप अंधेरे में कैसे ट्राइ करूँ? क्या आप थोड़ी देर शॉप का शटर डाल देंगे? मैं बाकी टॉप यहीं ट्राइ कर लूँगी।

वो एकदम से बोला – हाँ-हाँ, ज़रूर और उसने फटाफट जाकर शटर डाल दिया।

मैंने मुस्कुरा कर बोला – धन्यवाद, पर आप प्लीज़ इधर मत देखना, और मैंने उसे एक स्माइल दी।

वो बोला – जी नहीं देखूँगा। आप पहन लीजिए। मुझे मज़ा आने लगा सोचकर ही कि मैं एक लड़के के सामने नंगी होने वाली हूँ।

मैं धीरे-धीरे से वो टॉप उतारने लगी और एक ही पल में ऊपर से नंगी हो गई।

मिरर के सामने खड़े होकर मैं दूसरा टॉप पहनने लगी। वो डीप नेक का पारदर्शी टॉप था।

मैंने उसे पहना और उस लड़के की तरफ देखकर बोली – कैसा लग रहा है?

वो मेरे चुचे और मेरा बदन ऊपर से नीचे देखते हुए मुस्कुराया और बोला – क्या कहूँ? ऐसा माल मैंने कभी नहीं देखा।

मुझे हँसी आ गई। मैं पलट कर वो टॉप उतारने लगी तभी वो मेरे पीछे आ गया और पीछे से मेरे दोनों चुचे पकड़ लिए।

उसके हाथ बिल्कुल ठंडे पड़ गये थे। उसके ठंडे-ठंडे हाथ मेरे चुचों को बुरी तरह से पकड़े हुए थे। मैंने अपने हाथों से उसके हाथ पकड़ लिए।

वो समझ गया कि मैं साथ दे रही हूँ। उसने चुचे बहुत ज़ोर से दबा दिए। गरम होने की वजह से मेरे निप्पल बुरी तरह से टाइट थे।

उसने ज़ोर से निप्पल मसल दिए। मेरे मुँह से आआआआ… निकल गई और मैं पलट कर उसके सीने से लग गई।

उसने मेरे चुचे चूसने शुरू कर दिए। उफ़… बहुत ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगा और दूसरे हाथ से मेरी जीन्स खोलने लगा।

जीन्स उतरते ही मैं पैंटी में आ गई। वो एकदम से मेरी पैंटी उतारने लगा, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया।

वो बोला – क्या हुआ?

मैंने कहा – ऐसे नहीं जान, अपने मुँह से पकड़ कर उतारो।

वो मुस्कुराया और अपने होंठों पर जीभ फेरने लगा। उसने अपने दांतो से पकड़ कर मेरी पैंटी उतारनी शुरू की।

जब मेरी झाँटे दिखने लगीं तो उसने अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिए। मेरी हालत तो बहुत खराब होने लगी।

धीरे-धीरे उसने पूरी पैंटी उतार दी, अब मैं पूरी नंगी थी।

उससे रुका नहीं गया और उसने एक ही झटके में अपने सारे कपड़े उतार दिए।

उसने मुझे होंठों पर चूमना शुरू किया और मेरी गाण्ड पर हाथ फेरने लगा। फिर उसने गाण्ड को बहुत ज़ोर से नोचा और मुझे उठाकर शॉप के स्लॅब पर लिटा दिया और अपना लण्ड हिलाने लगा।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

मैंने कहा – क्या हुआ, जान?

वो बोला – अब तुझे चोद्ने का वक़्त आ गया है, मेरी जान।

मैंने कहा – इतनी जल्दी क्या है? मुझे मूत आ रही है।

उसने मेरी मूतने वाली जगह पर उंगली से नोचा और मसल कर बोला – यहीं से मूत आता है ना?

मैंने सिसकारियाँ भरते हुए कहा – आआआ… हाँ, मेरे राजा।

वो बोला – आजा, मेरे ऊपर मूत। मैं उसके पेट पर पैर फेला कर बैठ गई और मूतना शुरू कर दिया। उसने मेरी मूत में हाथ गीले किए और मेरे चुचों पर मसलने लगा।

उफ़… मुझे तो जैसे जन्नत मिल गई। हम दोनों पूरी तरह भीग गये थे। फिर उसने मुझे ज़मीन पर बिठाया और बोला – अब मैं मूतूंगा तेरे ऊपर रंडी, पकड़ अपने चुचे और ज़ोर-ज़ोर से दबा।

मैंने अपने चुचे पकड़ कर दबाने शुरू किए। वो मेरे सामने खड़ा होकर मेरे चुचे पर मूतने लगा और मैं उसका पेशाब अपने चुचों पर मल रही थी। उसने मुझे पूरा गीला कर डाला।

फिर वो मेरे ऊपर चढ़ गया और मेरा मुँह चाटने लगा। फिर धीरे-धीरे पूरा बदन चाटने लगा।

जैसे ही उसने अपना मुँह चूत पर रखा मैंने उसे ज़ोर से दबा लिया। वो मेरी चूत को बहुत ज़ोर-ज़ोर से चाटने लगा। बीच-बीच में ज़ोर से काट लेता था।

फिर उसने अपना लण्ड हिलाया और मेरी चूत पर रख दिया।

मेरे ऊपर लेट कर वो मेरे चुचे दबाने लगा और स्मूच करने लगा, करते-करते उसने ज़ोर से चूत मे लण्ड घुसा दिया और बोला – साली, हरामजादी आज तो तेरी चूत फाड़ कर रख दूँगा।

मैंने कहा – आ मेरे राजा… फाड़ दे इस चूत को… इसीलिए तो मैं यहाँ आई हूँ।

उसने बहुत ज़ोर-ज़ोर से चोदना शुरू कर दिया। मैं बोलने लगी – और ज़ोर से चोद मादर-चोद… साले, कभी रंडी नहीं चोदी क्या?

वो धक्के लगता हुआ बोला – साली, रंडी बहन की लोड़ी, तुझे तो ऐसे चोदूंगा की चुदना भूल जाएगी।

और वो मुझे बेहद ज़ोर-ज़ोर से चोद्ने लगा।

फिर कुछ ही देर में उसका पानी निकलने वाला था तो वो बोला – बता रांड़, पिएगी या अंदर छोड़ दूँ।

मैंने कहा – अंदर ही छोड़ दे मेरे कुत्ते और उसने अपना सारा माल मेरी चूत के अंदर ही छोड़ दिया और उठकर अपना लण्ड मेरे मुँह में डाल दिया। पूरा लण्ड चाट कर मैंने साफ कर दिया।

फिर वो खड़ा हुआ और बोला – और कुछ?

मैं हँसी और बोली – बस राजा, आज मज़ा आ गया।

वो बोला – अब कब आयगी?

मैंने कहा – जब खुजली हुई तो तेरे पास मिटाने आ जाऊँगी, बस नहीं चलता वरना हर बार मूतने भी तेरे ही पास आऊँ।

वो हँसने लगा और मुझे उठाकर ज़ोर से गले लगा लिया।

फिर मैंने अपने कपड़े पहने और उससे जाते हुए कहा – बल्ब फ्यूज़ नहीं है, लूस है और आँख मार दी।

वो ज़ोर से हँसा और मुझे गले लगा के गाल पर किस किया।

फिर मैं चली आई।

मेरी आपबीती आपको कैसी लगी… मुझे जरूर बतायें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *