दुश्मन की माँ चोद दी भाग-1

Maa Ne Lalaji Ke Samne Apni Tange Kholi

Dushman ki-maa chod di bhaag-1

स्कूल मैं कुछ लड़को से लड़ाई हो जाने पर गौरव ने एक सच्चा जाट होने का फर्ज निभाया और अपने दुश्मन की माँ चोद दी। ये चुदाई कहानी एक स्कूली लड़के की है जो दिल्ली का रहने वाला है। गौरव का कहना है किसी की गांड में ऊँगली ना करो और अगर कोई दूसरा करे तो उसकी Maa Chodo

मेरा नाम गौरव डबास है और मैं बारवी कक्षा में दूसरी बार फ़ैल हो गया था। शर्म के मारे मेने स्कूल बदल लिया और अपने पुराने दोस्तों को बोल दिया के मैं पास हो गया हूँ और अब मैं बिज़नेस में अपने पिता की मदद करूंगा।

जब मैं दूसरे स्कूल में गया तो वह मेरी किसी से कुछ खास बनी नही। पर स्कूल में एक खूबसूरत लड़की थी जो मुझे भाव देती थी। उसकी आँखों से पता लग जाता था की कब वो मुझे कामुक नजरो से देख रही है।

उसका नाम निधि था। धीरे धीरे निधि और मेरी बात आगे बढ़ी और हम हम दोनों अच्छे दोस्त बन गए।

पर स्कूल के कुछ लोंडो को ये बात पसंद नहीं आई। उन्होंने मुझे और निधि को परेशान करना शुरू कर दिया।

निधि पर उनमे से एक लड़के की गन्दी नज़र थी। ये जान कर मुझे गुस्सा गया और मेने उस लड़के को छूटी होने पर कस के चाटा जड़ दिया।

उसके कान से खून निकलने लगा और तभी उसने चीला चीला कर अपने दोस्तों को बुला लिया।

मेरा कोई दोस्त नही था और ना कोई मेरा साथ देने आया। उन्होंने मुझे बोहोत मारा।

घर पोहचा तो मेरी हालत बोहोत ख़राब थी। मेरे कपडे फाटे हुए थे और कही जगह से खून निकल रहा था।

उस दिन के बाद निधि ने खुद मुझ से बात करना छोड़ दिया। वो काफी डर गई थी।

मेने उस लड़के के बारे में जानकारी इकठा करना शुरू कर दिया। एक जाट होने के नाते मैं चुप नही बैठ सकता था। मैं उसे अकेले पीटना चाहता था ताकि कोई उसे बचा ना सके।

स्कूल के कुछ लड़को से बात करने के बाद मुझे पता लगा उसका नाम ऋषभ जैन है और उसका बाप बोहोत पैसे वाला है। वो काम के लिए महीने में कई बार दिल्ली से बहार जाता है। और ऋषभ अपने माँ बाप का एकलौता बेटा है।

फिर मेने कुछ दिन उसके घर पर नज़र राखी और जब उसका बाप घर से बहार काम के लिए निकला तो मैं उसके घर उसे पीटने घुस गया। मेने सोचा की अगर मैं उसे उसके घर में पीटकर स्कूल जाउगा तो सब मुझ से डरेंगे।

अंदर जाते ही पहले कमरे में उसकी माँ टीवी देखते हुए चाय पी रही थी। मुझे लगा था वो हर रोज़ की तरह आज भी पार्लर जायगी पर नही। मुझे दूसरे कमरे में नींद की गोलिया मिली तो मेने आंटी की गरमा गर्म चाय में डाल दी।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

गर्म चाय में वो गोली पूरी घुल गयी और आंटी पे जल्दी असर कर गई। फिर मेने पूरा घर छान मारा पर ऋषभ कही नही मिला।

पर जब मेरी नज़र उनकी कामुक माँ पर पड़ी तो मैं सब कुछ भूल गया।

पैसा कुछ भी कर सकता है। आंटी काफी सेक्सी दिख रही थी। मेरा मन मोके का फायदा उठाने का कर रहा था। मेने आंटी का ब्लाउज उतार दिया और उनके गोर स्तनों पर हाथ फेरने लगा।

आंटी का भरा भरा बदन काफी मजेदार दिख रहा था। मैं स्कूल में भी भरे शरीर वाली लड़िया तलाश करता था। Sexy Aunty की छाती काफी भरी थी। उसे देख मन कर रहा था की अभी उनके साथ बच्चा पेदा करदु।

फिर मेने उनके सामने कुर्सी राखी और सामने बैठ कर अपना हिलाने लगा। आंटी का गोरा और सुडोल शरीर देख कर मेरा मन कर रहा था की उन्हें वही चोदना शुरू करदु। पर ऐसा करना सही नहीं था। मैं करीब आधे घंटे अपना लण्ड धीरे धीरे हिला कर आंटी को देखता रहा।

मेरे लिंग के ऊपरी भाग से पानी टपकने लगा और गोटिया अपना माल छोड़ने के लिए बेताब हो रही थी। पर मैं ही धीरे धीरे आराम से आनंद लिए जा रहा था। मैं मैं उन्हें होठो को चूमना चूसना चाहता था। उनके गंदे और गीले छेदो को चाटना चाहता था। उम्मीद है आपको मेरी देसी चुदाई कहानी अच्छी लग रही होगी।

तभी मेने देखा आंटी ने एक पल के लिए आंखे खोली और वापस बंद कर ली। मुझ लगा आंटी जग गई है पर सोने का नाटक कर रही है।

मेने वह से जाने का सोचा पर ऋषभ की माँ को देख मेरे अंदर मानो नई अन्तर्वासना जाग उठी। और मेने सोचा क्यों ना पूरा मुठ मार कर काम ख़त्म ही किया जाए।

मेने हिमत करके आंटी की ब्रा भी उतार दी और उनके गोर मोटे स्तनों को हलके हाथ से सहलाने लगा।

फिर वापस मैं उन्हें देखता हुआ अपना लोडा हिलाने लगा। मेने आंखे बंद की और आंटी को चोदने का सपना देखने लगा। कुछ देर में मेरी सांसे तेज हो गई और मेरा माल निकलने वाला था।

तभी किसी ने मेरा हाथ रोक लिया और जब मेने आंखे खोली तो देखा।

ये थी मेरी आंटी की चुदाई कहानी का पहला भाग। दूसरा भाग पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे (दुश्मन की माँ चोद दी भाग-2) और कमेंट में बताये की आपको क्या लगता है ऋषभ की माँ अब मेरे साथ क्या करेगी ?

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!

Leave a Reply

Your email address will not be published.