Daily news update

खेल के मैदान से चूत के छेद तक

Khel ke maidaan se chut ke ched tak

मेरा नाम हर्ष है और मैं करौली जिले का रहने वाला हूँ…

मेरी उम्र 19 साल है।

अब, मैं अब स्टोरी पर आता हूँ!!

तो दोस्तो, मैं एक जगह खेलने जाता था… छोटा मैदान ही था और हम 10-11 ही खेलते थे!!

वहां पर एक हम उम्र लड़की का घर था। मैंने कई बार उसे आँख मारी और फ्लाइंग किस दी…

वो जीभ निकालती, फिर हंसती। नाम था – काजल। थोडा पतला शरीर… मटकती गाण्ड और मोटे-मोटे चूचे… !!

मैंने कई बार उसे देखकर मुठ मारी थी।

एक दिन मुझे पता चला कि उसके घर पर कोई नहीं है और उसी दिन हमारी गेंद उनकी छत्त पर चली गई।

मैंने लड़कों से कहा – मैं लाता हूँ… और मैं खिडकियों से ऊपर चढ़ गया।

वो ऊपर ही बैठी थी।

मैंने उससे पूछा – सब ठीक है।

वो बोली – हर्ष, घर पर कोई नहीं है; मन नहीं लग रहा… भैया 9 बजे (रात) को आयेंगे…

मित्रो, उस समय 4 बजे थे।

मैंने तुरंत नीचे आकर गेंद लड़कों को देकर कहा – मेरी तबियत ख़राब है, मैं जा रहा हूँ… और मैं चुपके से छत्त पर चढ़ गया।

वो बोली – अब क्यों आये हो…??

मैंने बोला – तुम अकेली हो, कुछ बात करते हैं… अरे!! पानी तो पिला दे; यार।

वो बोली – चलो, नीचे ही बैठते हैं…

नीचे जाते ही वो पानी ले आई, मैंने पानी पीया और हम इधर-उधर की बातें करने लगे…

अचानक उसे टॉयलेट आया, वो चली गई…

जब वो आई तो वो मेरे पास ही बैठ गई और बोली – हर्ष, “आई लव यू”

मेरे तो होश ही उड़ गए; लेकिन मैं संभला और सोचकर कहा – काजल, आई लव यू टू…

काजल, तुरंत मुझसे चिपक गई और उसके स्तन मेरी छाती से दबने लगे।

फिर मैंने उसके होंठ चूमना शुरू किया!!

वो बोली – नहीं, ये गलत है, हर्ष।

लेकिन मैंने उसके मुलायम होठों को फिर से चूसना शुरू कर दिया…

थोड़ी मशक्क्त के बाद उसने भी साथ देना शुरू कर दिया और उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी… मैं भी उसे चूसने लगा!!

अब वो मदहोश होने लगी!!!

मैं टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मे दबाने लगा, वो सिस्कारियां भरने लगी… फिर मैंने उसकी टॉप उतार दी!! उसने ब्लू ब्रा पहन रखी थी, जिसमे से उसके गोरे मम्मे साफ़ दिख रहे थे…

चुचूकों का घेरा एक रुपए के सिक्के जितना होगा, उनका रंग भूरा था और एकदम कड़े दिख रहे थे…

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

उन्हें देख कर मेरे मुँह में पानी आ रहा था। अब मैंने उसकी पैंटी और ब्रा उतार दी!! अब वो मेरे सामने केवल रेड कलर की पैंटी में थी!!!

उसने नज़रें नीचे कर लीं, मैंने फिर से उसका मुँह ऊपर करके फ्रेंच किस शुरू कर दी और पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाना रहा था, अब मैं किस छोड़कर उसके गोल गोरे चुचे चूसने और दबाने लगा और वो सिस्कारियां भरने लगी… …

अब मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी, क्या, क्लीन शेव चूत थी उसकी!! और मैं अब उसे लिटाकर उसकी चूत को चूसने लगा…

मैंने अब मेरे सारे कपडे उतार दिए, हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए, अब वो मेरा लण्ड और मैं उसकी चूत चूस रहा था!!! !!

वो बहुत ही अच्छे से लण्ड चूस रही थी, मैं अपनी जीभ उसकी चूत में घुसाने लगा… वो आह… आह… करने लगी…

हम दोनों की ही स्पीड बढ़ गई। अब, मैं हट गया और उसकी टाँगे फैला दी।

फिर मैं उसकी टाँगों के बीच में आ गया और अपने लण्ड को उसकी चूत से सटाया तो वो सिसकारियाँ लेने लगी, कह रही थी – घुसेड़ दे अपने लण्ड को और फाड़ दे मेरी चूत!!! !!

मैंने उसकी टाँगों को अपने कन्धे पर रखा और एक धक्का मारा। मेरा लण्ड अन्दर नहीं गया, लेकिन 2-3 धक्के लगाने पर मेरे 5 इंच के लण्ड का सूपड़ा उसकी चूत में चला गया!!!

वो जोर से चिल्लाई – उईइम्ममाआअ… उईइम्ममाआअ… और उसकी चूत से थोडा सा खून निकलने लगा… अब मैंने जोर से धक्का मारा; मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में चला गया और वो और जोर से चिल्लाने लगी…

मैं उसके होंठ फिर से चूसने लगा, अब मैं जोर-जोर से धक्के मारने लगा…

मेरा पूरा लण्ड अब तक उसकी चूत में घुस गया था… अब मैं रुक गया और उसके होंठ जोर से चूसने लगा और मम्मे दबाने लगा… …

अब उसने ऊपर की तरफ एक छोटा सा धक्का मारा ,शायद उसका दर्द कम हो गया था और उसे मजा आने लगा था…

अब मैं जोर से धक्के मरने लगा वो आह… आह… करके सिस्कारियां लेने लगी। 7-8 मिनट के बाद मुझे लगा, मैं झड़ने वाला हूँ…

उसने कहा – अन्दर मत डालना…

मैंने लण्ड निकालकर उसके मुँह में डाल दिया, अब वो उसे चूसने लगी…

मैंने पूरा गरमा-गरम माल उसके मुँह में डाल दिया। उसने पूरा लण्ड चाटकर साफ़ कर दिया!!

फिर हमने सफाई करके कपडे पहने, फिर मैं अपने घर आ गया!!

उसके बाद मैंने उसकी एक बार गाण्ड भी मारी, वो स्टोरी फिर कभी…

प्लीज, मुझे ईमेल करे –

अगर आपको हमारी साइट पसंद आई तो अपने मित्रो के साथ भी साझा करें, और पढ़ते रहे प्रीमियम कहानियाँ सिर्फ HotSexStory.xyz में।

0Shares

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *