Daily news update

एयरहोस्टेस की चुदाई का अनुभव-1

Airhostess ki chudai ka anuvhav-1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है, मेरा लंड 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है, वैसे में इस साईट पर रेग्युलर स्टोरी पढ़ता हूँ इसलिए आज में अपनी स्टोरी तुम सबके साथ शेयर करने जा रहा हूँ. ये मेरा पहला अनुभव है. अब में आपको ज्यादा बोर ना करते हुए सीधा स्टोरी पर आता हूँ. में दिल्ली में रहता हूँ और साउथ दिल्ली में पढाई करता हूँ.

एक दिन में अपने इंस्टीट्यूट जा रहा था और अपने मोबाईल पर में गाने सुन रहा था कि तभी अचानक से एक लड़की से मेरी टक्कर हो गई, तो उसकी सारी बुक्स गिर गई. तो मैंने उसको देखा तो देखता ही रह गया, वो बहुत ब्यूटिफुल दिख रही थी. फिर मैंने उसकी बुक्स उठाने में मदद की और उससे सॉरी बुला. तो उसने भी मुझसे सॉरी कहा और वो मुस्कुराई और चली गई.

फिर अगले दिन वही लड़की मुझे फिर से आती दिखी तो मैंने भी उसे स्माइल की, तो उसने भी स्माइल की और चली गई. फिर इस तरह से कई दिनों तक यही चलता रहा. फिर एक दिन मैंने हिम्मत करके उससे बात की, तो मैंने उससे पूछा कि आप रोज स्माइल क्यों करती हो? तो वो कुछ नहीं बोली. तो मैंने उससे उस दिन टक्कर पर फिर से सॉरी बोला.

यारो यकीन नहीं मानोंगे कि उसकी आवाज इतनी प्यारी थी कि में सुनता ही रह गया था, उसने कहा कि इट्स ओके. फिर मैंने थोड़ी हिम्मत करके उससे आगे बात करनी स्टार्ट की. फिर मैंने उससे पूछा कि तुम यहाँ क्या करती हो? तो उसने कहा कि वो एक एयरहोस्टेस है और यहाँ साउथ दिल्ली के एक एयरहोस्टेस इंस्टीट्यूट से कोर्स कर रही है. तो फिर मैंने भी अपना परिचय दिया, में भी इंस्टीट्यूट से कोर्स कर रहा हूँ. फिर हम चलते-चलते बातें करने लगे.

फिर मैंने उसका नाम पूछा, तो उसने अपना नाम दिव्या बताया. फिर इस तरह से हम काफ़ी दिन तक मिलते रहे और फिर हम दोनों ने अपने मोबाईल नंबर एक दूसरे को दे दिए और काफ़ी देर तक बातें करते रहते और काफ़ी जगह घूमने जाते थे. फिर एक दिन उसने मुझे कॉल किया और कहा कि आज मेरी क्लास जल्दी ख़त्म हो गई है, तो तुम आ जाओ, घूमने चलते है.

मैंने अपनी बाइक निकाली और चला गया. अब में उसके इंस्टीट्यूट के बाहर उसका इंतजार कर रहा था कि मैंने देखा कि वो एयरहोस्टेस की ड्रेस में बाहर आई. फिर में उसको देखता ही रह गया, उसने एयरहोस्टेस की हाफ स्कर्ट पहन रखी थी और उसकी गोरी-गोरी टांगे दिख रही थी. अब में तो उन्हें देखता ही रह गया था. वो बहुत ब्यूटिफुल लग रही थी. फिर वो मेरी बाइक पर बैठ गई. फिर मैंने उससे पूछा कि कहाँ चलना है? तो वो बोली कि कही मॉल में चलते है, तो में उसे एक प्लाज़ा में ले गया.

अब हमें वहाँ पहुँचने में करीब 25 मिनट लगे थे. अब वो बाइक पर मुझे कसकर पकड़कर बैठी थी. अब मुझे बहुत मजा आ रहा था. अब में बार-बार ब्रेक मार रहा था. अब हम वहाँ पर पहुँच गये थे और घूमने लगे थे, तो मैंने देखा कि वहाँ पर काफ़ी कपल घूम रहे थे और वो हमें बार-बार देख रहे थे, क्योंकि वो लग ही रही थी सेक्सी. अब में भी इस बात को महसूस कर रहा था, शायद उसे भी ये बात पता होगी और फिर लास्ट में हम अंसल के गार्डन में चले गये. अब वहाँ काफ़ी कपल बैठे थे और एक दूसरे के किस और हग कर रहे थे और फिर हम उन सबको देखकर आगे चले गये.

तभी उसने आगे जाकर कहा कि ये सब क्या कर रहे है? तो मैंने कहा कि एक दूसरे को प्यार कर रहे है. फिर मैंने सही टाईम का फ़ायदा उठाकर उसे प्रपोज कर दिया, मैंने कहा कि दिव्या आई लव यू, में तुमसे ये बात काफ़ी दिन से कहना चाहता था, लेकिन कह नहीं पाया. फिर वो कुछ देर तक तो चुप रही और फिर बोली कि अब हमें चलना चाहिए. फिर हम बाइक पर बैठे और अपने-अपने घर आ गये.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब मुझे तो काफ़ी डर लग रहा था कि उसने बुरा तो नहीं मान लिया और फिर मैंने उसे कॉल भी नहीं किया, ताकि वो और बुरा ना मान जाए. फिर रात में 1 बजे उसका कॉल आया, तो में देखता ही रह गया. फिर मैंने कॉल अटेंड की और हैल्लो बोला, तो उसने कुछ नहीं बोला.

मैंने उससे सॉरी कहा और साफ-साफ कह दिया कि जो मेरे दिल में बात है मैंने वो कह दी थी, तो मैंने फिर से उससे पूछा कि डू यू लव मी? तो वो कुछ देर के बाद बोली कि तुम्हें क्या लगता है कि एक लड़की इतनी रात को 1 बजे कॉल क्यों करेगी? तो में समझ गया बात क्या है? तो उसने मुझसे आई लव कह दिया. फिर में इतना खुश हुआ कि क्या बताऊँ? यारो कि जैसे मुझे कोई परी मिल गई हो, अरे वो भी तो परी है एयरहोस्टेस की.

फिर आख़िर में हम दोनों ने करीब घंटे 2 तक बातें की और फिर सो गये और फिर हमने अगले दिन मिलने का प्रोग्राम बनाया. फिर अगले दिन हम मिले, तो उसकी आँखे कुछ झुकी थी. फिर मैंने कहा कि इसमें शरमाने की क्या बात है? तो वो कुछ नहीं बोली और बाइक पर बैठी और फिर हम वहाँ से प्लाज़ा की और निकल गये. फिर वहाँ पहुँचते ही मैंने बाइक पार्क की और उसका हाथ अपने हाथ में लेकर चलने लगा. अब उसे भी काफ़ी अच्छा लग रहा था.

हम रेस्टोरेंट में गये और वहाँ बर्गर खाया और कोक पी और फिर बातें करने लगे. फिर उसने कहा कि चलो गार्डन में चलते है. फिर मैंने कहा कि ठीक है और फिर हम गार्डन में गये. अब वहाँ पर फिर से वही सीन था कि कपल एक दूसरे को किस और हग कर रहे थे. फिर हम एक अच्छी सी जगह जाकर बैठ गये और बातें करने लगे.

0Shares

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *