Daily news update

गुप्ता अंकल ने मुझको बंधक बनाके मेरी सामने मेरी बीबी का भोसड़ा फाड़ दिया और उसे खूब खाया


 हाँ दोस्तों, वैसे है तो ये दुखद घटना, पर आपको लोगों को सुनाकर मैं मन हल्का करना चाहता हूँ. मैं आकाश गाजियाबाद का रहने वाला हूँ. मेरी बीबी का नाम काजल है. मैं अपनी ये दुखद कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुना रहा हूँ. दोस्तों, मेरे घर से ४ घर चोदकर गुप्ता अंकल रहते है. हम लोग उनको गुप्ता जी गुप्ता जी कहकर बुलाते थे. उनको २ लड़के थे जो अमेरिका में सेटेल हो गए थे. उसकी धर्मपत्नी पहले ही मर चुकी थी. मेरी उनसे खूब पटरी खाती थी. गुप्ता अंकल की देखभाल करने वाला कोई नही था. इसलिए मैं सुबह शाम खाने टिफिन में पैक करके उसके पास ले जाता था. वो मुझको आपना मानस पुत्र या मुंह बोला बेटा मानते थे.

उसके अगल बगल वाले पडोसी उसने जादा बात नही करते थे. क्यूंकि आप तो जानते ही होंगे की महानगर में पडोसी कम ही अपने पडोसी से मेल जोल रखते थे. इसलिए गुप्ता अंकल पूरी तरह से मुझ पर ही आश्रित थे. जब इस तरह ५ साल तक मैंने उसकी अविरत सेवा की तो उन्होंने अपना २० लाख का मकान खुश होकर मेरे नाम करने का फैसला कर लिया.

आकाश बेटे !! एक दिन चलो कचेहरी. अपना मकान तुम्हारे नाम कर दूँ !! मैं कब मर जाऊं कोई नही जानता!!  वो बोले. मैंने ये बात घर आकर अपनी बीबी काजल को बताई तो वो फुले नही समाई. २० लाख का मकान हम किराये पर उठाकर २० ३० हजार तो आराम से बना सकते थे. मैं बहुत खुश हो गया. मैंने जिस दिन अपने ऑफिस से छुट्टी ले ली, उस दिन गुप्ता अंकल बीमार पड़ गए. ना ही मैं उसको लेकर कचेहरी ले जा पाया, और ना ही मकान मेरे नाम हो पाया. मेरी बीवी काजल बड़ी लालची प्रवृति की थी. वो हर रात मेरे कान भर्ती की किसी तरह मैं मकान अपने नाम करवा लूँ. हम लोग प्लानिंग कर ही रहें थे की अचानक गुप्ता अंकल को स्किन की कोई बिमारी हो गयी. उनके पास एक आदमी का रहना जरूरी था. तो मैंने अपनी बीवी काजल से कह दिया की वो उनके घर जाकर गुप्ता अंकल की सेवा कर दिया करे.

अब मेरी जवान और खूबसूरत बीवी सुबह १० बजे गुप्ता अंकल के घर चली जाती. उनको नहलाती, दवा देती. उनके लिए खाना बनाती, उनकी खाल पर दवा लगाती जहाँ जख्म था. कुल मिलाकर दोस्तों, मेरी जावान बीबी मिडवाइफ बनकर गुप्ता अंकल की सेवा करने लगी. मेरी बीवी काजल अभी २३ साल की ही थी. ३२, २८, ३४ का फिगर था उसका. अभी मेरी शादी के २ साल ही हुए थे. मैं अभी अपनी २३ की जवान बीबी को कसके चोद भी नही पाया था. क्यूंकि मेरा सुबह ९ से रात ९ तक का ऑफिस ही मेरा पूरा समय ले लेता था. मुझे इस बात का जरा भी इल्म नही था, पर गुप्ता अंकल की नजर मेरी जावान बीबी के हुस्न और उसकी जवानी पर थी. जब काजल उनको नहलाने ले जाती तो उनका गोरा गदराया बहन गुप्ता अंकल के जिस्म से छू जाता. गुप्ता अंकल का लंड तुरंत खड़ा हो जाता.

काजल तो उनको अपना पिता समज के उनकी सेवा करती, पर गुप्ता अंकल जो ५८ ६० की उम्र के थे, कहीं ना कहीं मन में सोचते की आकाश की औरत तो बड़ा जोर का माल है. अगर ये एक बार मेरा बिस्तर गरम कर दे तो कहने ही क्या. मेरा तो बुढ़ापा ही सुधर जाए. मुझे गुप्ता अंकल के नापाक इरादे जरा भी पता नही चला दोस्तों. क्यूंकि मैं भी उनको अपना बाप समजता था. मेरी औरत काजल उनके घर में खाना भी बनाती, उसके घर में जब वो बैठकर झुक झुक पोछा लगाती तो उसके गोरे गोरे मम्मे गुप्ता अंकल को दिख जाते और वो बार बार सोचते की ‘काश किसी दिन आकाश की औरत को चोदने खाने को मिल जाए तो मैं इसके नाम अपना सारा धन, घर मकान कर दूँ. वो काजल को घूर घूर करके देखते. काजल को हल्का हल्का उनपर शक हो गया था.

सुनो आकाश !! मुझे गुप्ता अंकल के इरादे कुछ ठीक नही लगते. वो मुझे घूर घूर कर आखें फाडकर देखते है. पता नही क्या सोचते रहते है!! काजल ने मुझे बताया. मैंने उसकी बात पर कोई खास ध्यान नही दिया. फिर एक दिन जब मैं गुप्ता अंकल से मिलने गया तो वो बड़ी अलग अलग बात करने लगे.

‘अरे आकाश! तुम्हारी औरत तो बड़ी खूबसूरत है! ऐसा नगीना तुम कहाँ से ढूँढ़ के लाये भाई?? मैंने तो तुम्हारी औरत को देखा तो नजरे ना हटा सका. सच में उपर वाले ने उसे बड़ी फुर्सत में बनाया होगा ! गुप्ता अंकल बोले.

मैं उसकी बात पर हंस दिया. मैंने उनकी बात का कोई बुरा नही माना. पर गुप्ता अंकल की नियत मेरी बीवी पर कुछ जादा ही खराब थी. अगले रविवार को मैं और काजल दोनों शाम को उनके घर पहुचे. अब उनकी तबियत कुछ ठीक लग रही थी. मेरी बीबी काजल बड़ी लोभी और लालची प्रविती की थी. वो बार बार कहती थी की चाहे गुप्ता अंकल की उसको जितनी ही सेवा करनी पढ़ जाए, वो करेगी और उनका २० लाख का मकान मेरे नाम करवा देगी. काजल ने ऐसा ही प्लान बनाया था. इलसिए मैं उसको लेकर खुसी खुसी गुप्ता अंकल के घर उस दिन पहुच गया था. काजल ने एक बड़ी खूबसूरत पर्पल कलर की साड़ी पहन रखी थी. उसके तने हुए दूध के दोनों उभार उसके कसे ब्लौस से बाहर की ओर झाक रहें थे. काजल ने ढेर सारा मेकप कर रखा था. उसके गोरे गोरे गाल और उसका भरा पूरा बदन बड़ा आकर्षक लग लगा था.

रस्ते में मैं जब उसको बाइक पर बैठाकर ला रहा था तो हर जवान मर्द उसको आंखें फाड़ फाड़ कर देख रहा था. सच में मेरी बीवी काजल गजब का माल लग रही थी. उसके गुलाबी होठ शहद ने मीठे थे. काजल से ढेर सारी चटक रेड कलर की लिपस्टिक अपने होठों में लगा रखी थी. वो गजब का माल लग रही थी. जैसे ही मैंने गुप्ता अंकल के घर की घंटी बाजायी तो बाहर निकले.

अरे आकाश बेटा !! तुम आ गए!! उन्होंने मुझे गले लगा लिया.

आओ आओ !! अंदर आओ !! वो बोले.

हम मियां बीबी अंदर गए. कुछ देर बात हुई. फिर गुप्ता अंकल हम दोनों के लिए कोल्ड ड्रिंक ले आये.

पियो बेटा !! वो बोले.

मैं और काजल दोनों कोका कोला की बोतल उठाकर पीने लगा. बड़ी टेस्टी थी. कुछ देर बाद मुझे हल्की हल्की झुनझुनाहट लगने लगी. मैं बेसुध होने लगा. कुछ देर बाद मुझको नींद आ गयी और मैं वहीँ सोफे पर ही ढेर हो गया. मेरी बीबी काजल से १ २ सिप ही ली थी. इसलिये वो मेरी तरह पूरी बेहोश नही हुई. गुप्ता अंकल उठ खड़े हुए. वो कुटिल मुस्कान बिखेरते हुए हसने लगे. उन्होंने हम दोनों को कोल्ड ड्रिंक में नशीली दवा मिलाके पीला दी थी. अब मुझे पता चला.

आओ काजल बेटी कमरे में चला जाए ! वो बोले और काजल के पास आकर बैठ गए. उसके दोनों कंधों पर उन्होंने अपने हाथ रख दिए.

अंकल !! ये आप?? क्या कर रहें है ?? मेरी बीबी काजल से टूटी आवाज में कहा. वो गुप्ता अंकल से डर रही थी और उनसे पीछे हट रही थी. मुझे थोडा होश आ गया था. मेरी आँखें खुल रही थी, पर मैं चाहकर भी अपना बदन नही हिला पा रहा था. यहाँ तक की मेरी हाथ भी नही उठ रहा था. पर दोस्तों, मैंने गुप्ता अंकल को अपनी जवान और खूबसूरत बीवी की तरफ बढते देख लिया था. मैं विरोध तो नही कर पा रहा था, पर जान तो गया ही था की सायद वो मेरी जवान और खूबसूरत बीवी के साथ कोई ऐसी वैसी हरकत करना चाहते है.

हाँ काजल बेटी !! मैं तुम्हारे रूप और खूबसूरती को पाना चाहता हूँ!! मुझे तुम्हारे इस हुस्न की बड़ी प्यास है. आज मैं तुम्हारे हुस्न का रस पीकर रहूँगा! गुप्ता अंकल बोले और उन्होंने काजल के स्लीवलेस गोरे गोरे अतिसुन्दर कन्धों को लपक के पकड लिया.

नही! अंकल जी! नही !! काजल बोली. काजल अपने होश में नही थी. क्यूंकि दुस्त गुप्ता अंकल ने सायद कोई बड़ी पॉवरफुल नशीली दवा हमको दी थी. काजल की आँखे आधी आधी बंद थी, आधी आधी खुली थी. गुप्ता अंकल उसके बदन से खेलने लगे. उसके गालों पर गलत नियत से चुम्मी लेने लगे. काजल के गोरे गोरे चिकने गालों को वो धडाधड चुम्मा लेने लगा. काजल चाह कर भी कुछ नही कर पा रही थी. क्यूंकि दवा उसके खून में घुल चुकी थी. मैंने गुप्ता अंकल की सब करामत देख रहा था. मन तो कर रहा था की एक भारी ईट उठाकर उनके सिर पर दे मारूँ. पर दोस्तों, मैं उनकी सब हरकत देख रहा था. गुप्ता अंकल ने मेरी जवान बीबी काजल का पर्पल कलर का पल्लू हटा दिया. उसके दोनों मस्त मस्त मम्मे उसके ब्लौस पर से दिखने लगे. गुप्ता अंकल ने अपनी जीभ अपने होंठों पर फिरा दी और काजल के मम्मे पर हाथ रख दिए, फिर मुझे देखने लगे.

मेरी आँख में गुस्सा था. पर मैं लाचार था. मैं अब उनका प्लान समझ गया था की वो मेरे सामने ही मेरी बीवी को चोदेंगे. मेरे सामने ही मेरी जवान बीबी को नंगा करेंगे. मेरे सामने ही मेरी बीवी की भोसड़े में अपना मोटा लंड डाल के उनकी चूत मारेंगे. दोस्तों, मैं दुष्ट गुप्ता अंकल का सारा प्लान समझ गया था. फिर वो काजल की तरह बढ़ गए और उसके ब्लौस पर से ही उसके मम्मे दबाने लगे. काजल लाचार थी. कुछ ना कर सकी. फिर उन्होंने मेरे सामने ही उसको सोफे पर लिटा दिया. अपनी शर्ट निकाल दी. एक एक करके काजल के ब्लोस के सारे बटन बटन खोल दिए. मैंने रोने लगा. फिर एक झटके में उसकी ब्रा भी निकाल दी. काजल को जरा जरा होश था. वो नही नही कर रही थी. काजल के बड़े बड़े रसीले मम्मो को गुप्ता अंकल अपने हाथ में लेने लगे. पर काजल के दोनों कबूतर इतने बड़े थे की गुप्ता अंकल के हाथ भी छोटे पड़ गए. वो उसके स्तन को गोल गोल सहलाते हुए दबाने लगे, फिर पीने लगे. काजल बेसुध थी, अपना बचाव नही कर कर सकती थी. पर नही नही कर रही थी.

गुप्ता अंकल मेरी बीवी पर लेट गए और उसके मस्त बड़े बड़े दूध पीने लगे. फिर उन्होंने उसकी सारी निकाल दी. फिर उसका पेटीकोट, फिर उसकी पैंटी भी निकाल दी. मैंने दूसरे सोफे पर बैठा था. मेरा बदन सुन्न था, पर मैं सब कुछ देख और समझ रहा था. गुप्ता अंकल अपना मोबाइल ले आये और मेरी नंगी बीवी की १० २० फोटो उन्होंने खीच ली. मुझे बहुत गुस्सा आया. फिर वो काजल की चूत पीने लगे. उन्होंने उसको भी मोबाइल में रिकॉर्ड कर लिया. काजल ने कई दिन से झांटें नही बनायीं थी, क्यूंकि कई दिन से मैं उसको नही चोद पाया था. ऑफिस का काम ही इतना जादा था की मुझे प्यार मुहब्बत करने का वक्त ही नही मिलता था. गुप्ता अंकल मेरी बीबी की बड़ी बड़ी काली काली झांटे सहलाकर उसकी चूत पि रहें थे. सबे बड़ी बात की वो सब कुछ कमरे में रिकॉर्ड भी कर रहें थे. मैं तो बस रो रहा था.

मेरी बीबी की मस्त चूत, चूत के लम्बे लम्बे होंठ अपनी ऊँगली से खोल खोल कर गुप्ता अंकल पी रहें थे. काजल के भगनाशा[ चूत के दाने] को वो हो सहला रहें थे अपनी ऊँगली से और अपनी जुबान को लपर लपर करके उसकी चूत पी रहें थे. मेरा खून खौल रहा था. मैं कुछ नही कर सकता था. फिर गुप्ता अंकल ने काजल के दोनों पैर खोल दिए. अपना लंड लगाकर मेरी बीबी को मेरे सामने चोदने लगे. मेरी आँख से आंसू गिर गया. गुप्ता अंकल बड़े खुश लग रहें थे. जिस औरत को वो पिछले २ महीने से ताड़ रहें थे, आज आखिरकार उसका शिकार करने में वो सफल हो गए थे. धकाधक मेरे सामने मेरी बीबी को वो पेल रहें थे. काजल ‘नही अंकल ! नही अंकल! हल्का हल्का कह रही थी. उनका मोटा लौड़ा मेरी बीबी की चूत को अच्छे से फाड़ रहा था. उनके मोटे लंड से उसकी चूत के दोनों होंठ खुल गए थे. वो काजल के मम्मे पीते हुए उसको खा रहें थे.

काजल की चूत में उनका लंड सट सट अंदर बाहर बड़ी आराम से आ जा रहा था. मुझे नही पता की काजल को कैसा लग रहा होगा. पर गुप्ता अंकल की आँख में सिर्फ और सिर्फ कामवासना और चुदास ही भरी थी. वो बैठकर मेरी बीबी को चोदते, फिर उसपर लेट जाते और उसको चोदते. बड़ी मस्त चुदाई की उन्होंने मेरी बीवी की. फिर कुछ देर बाद वो काजल की चूत में ही झड गए. उन्होंने लगा बाहर निकाला. मैंने खुद पानी आँखों से काजल की चूत देखी, गुप्ता अंकल के माल से तो भरी हुई थी. उन्होंने मेरी बीवी की सब कुछ लुट लिटा और रिकॉर्डिंग कर ली. मेरे हाथ पैर उन्होंने रस्सी से बाँध दिए. ३ घंटों बाद मुझको होश आया. गुप्ता अंकल ने धमकी थी की अगर मैंने पोलिस में रिपोर्ट की तो वो मेरी बीबी की चुदाई की विडियो इन्टरनेट पर डाल देंगे. दोस्तों, आज ६ महीने होने को आये है, हर रात वो मेरे सामने मेरी जवान बीबी की चूत मारते है. मैं लाचार हूँ. कुछ नही कर पा रहा हूँ. ये कहानी आप नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहें थे.



Source link

0Shares

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *