Daily news update

अवैध सम्बन्ध की सेक्स कहानी बड़ी बहन के साथ


अवैध सम्बन्ध की सेक्स कहानी, Bhai bahan sex, velentine day sex, bahan ki chudai ki sex kahani, मेरा नाम सुप्रिया है मेरी उम्र 30 साल है। आज मैं आपको अपनी अवैध सम्बन्ध की सेक्स कहानी सुनाने जा रही हूँ। ये सेक्स कहानी मेरे और मेरे छोटे भाई के साथ की है। कैसे मैंने अपने भाई से ही शारीरक सम्बन्ध बना ली और अब रोजाना चुदवाती हूँ यही आपको नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम के माध्यम से आप सभी पाठको का स्वागत करती हूँ और अपनी कहानी आप सबों के सामने रख रही हूँ। आशा करती हूँ मेरी कहानी हॉट और सेक्सी लगेगी।

जैसे की आपको पहले ही पता चल गया है मुझे चोदने वाला कोई और नहीं बल्कि मेरा सगा छोटा भाई है। वो मेरे से आठ साल छोटा है पर सेक्स सम्बन्ध बन गया इसी वेलेंटाइन डे पर। कभी कभी कुछ ऐसा हो जाता है और बात आगे बढ़ जाती है। और वो हो जाता है जो होना नहीं चाहिए, खाश कर अपने परिवार के सदस्यों के साथ और वो भी अपना सगा भाई हो तो और भी अलग बात हो जाती है।

वेलेंटाइन डे के दिन मैं घर पर थी, मेरा भाई अपने गर्लफ्रेंड से मिलने गया था और मेरे मम्मी पापा दोनों ही शहर से बाहर गए थे। तो घर में मैं और मेरा छोटा भाई ही था। मेरा भाई रात के करीब नौ बजे वापस आया तो वो मुझे बहुत ही ज्यादा उदास लग रहा था। कारन जब पूछी तो पता चला की उसका गर्लफ्रेंड किसी और लड़के से प्यार करने लगी। इसी धोखे की वजह से तो टूट गया था।

ऐसे में मुझे लगा की अपने छोटे भाई को सहारा देना चाहिए। इसलिए मै अपने भाई को प्यार और दुलार करने लगी और हाथ फैला दी की वो मेरे गले लग जाए। वो भी मेरे से लिपट गया और रोने लगा। मैं बोली की रोता क्यों है तू, चली गयी वो रंडी होगी एक से मन नहीं भरा होगा तो वो किसी और के साथ रंगरेलियां मना रही होगी।

भाई ने कहा दीदी मैंने क्या नहीं किया उसके लिए आज के लिए वो वादा की थी की ओये होटल में मुझे वो देगी वो मैं एक साल से मांग रहा था। मैं ओयो होटल में कमरा भी बुक किया था पर उसी होटल में वो मेरे एक और स्कूल के दोस्त विक्रांत के साथ के कमरे है। वो रंडी निकली दीदी वो रंडी निकली, कहकर वो और भी ज्यादा रोने लगा।

मुझे लगा की कही वो गलत कुछ ना कर ले इसलिए मैं बोली तू चिंता नहीं कर। मैं रिश्ते में बहन हूँ तेरी पर तू मुझे अपना गर्लफ्रेंड बना ले। क्यों बाहर खुशियां ढूंढता है। सब लोग बेवफा होते हैं। मैं खुद ही इसका शिकार हो गयी थी उसने मुझे यूज किया और छोड़ दिया।

और मैं उसको गले से फिर से चिपका ली। अब बात कुछ और हो गयी वो मेरी पीठ को सहलाने लगा। मैं भी उसके पीठ को सहलाने लगी। हम दोनों ही कामुक होने लगे मेरी सांसे तेज तेज चलने लगी। उसका लंड खड़ा होने लगा क्यों की उसका लंड मेरी जांघ पर सट रहा था मुझे महसूस हो रहा था की उसका लंड टाइट हो रहा है।

उसके बाद क्या बताऊँ दोस्तों उसने अपना होठ मेरी होठ पर रख दिया। मैं रोक नहीं पाई उसे और मैं भी उसके होठ को चूसने लगी। हम दोनों ही आँखे बंद कर के एक दूसरे के होठ को चूस रहा था। अब हम दोनों ही कामुक हो गए। वो मेरी चूचियों को सहलाते हुए हुए कहा आई लाइव यू दीदी। आप ही वेलेंटाइन हो।

और वो मेरी गांड को सहलाते हुए मेरी गर्दन को चूमने लगा। मैं अब अपने आप को सौंप चुकी थी। वो मेरे कपडे उतारने लगा तो मैं बोली बाहर का दरवाजा तो बंद कर लो अच्छे से। वो भाग कर गया और मेन दरवाजा को बंद किया और भाग कर आया तब तक मैं कमरे में पहुंच गयी और बेड पर बैठ गयी. वो आते ही मुझे लिटा दिया और मेरी चूचियों को मसलने लगा।

धीरे धीरे वो मेरे सारे कपडे उतार दिए। खुद भी अपने कपडे उतार फेंके। मेरी बड़ी बड़ी चूचियां जो टाइट थी और निप्पल कथई रंग का वो देख कर पागल हो गया। वो मेरे गोरे बदन को ऊपर से निचे तक चाटने लगा और चूचियों मेरी पीने लगा। वो दांत से जब वो मेरी निप्पल को काटता मैं पागल हो जाती। मेरे मुँह से सिर्फ आह आहे आह आह आह निकल रहा था।

अब वो निचे चला गया और मेरी दोनों टांगो को अलग अलग किया और चूत मेरी चाटने लगा। मैं पागल हो गयी थी मेरी चूत काफी ज्यादा गरम हो गयी थी। पानी निकलने लगा मेरी चूत से गीली हो गयी थी वो मेरी चूत की पानी को चाट रहा था और कह रहा था दीदी नमकीन है तुम्हारी चूत। और वो आँखे बंद कर के चाट रहा था और मैं आआआह आआआह कर रही थी। दांतो को पीस रही थी। होठ खुद से ही काट रही थी।

अब क्या था दोस्तों मैं बोली तुम अपना आइसक्रीम तो मुझे भी खिलाओ तो वो तुरंत ही ऊपर आ गया मेरी छाती पर बैठ गया और अपना मोटा लम्बा लंड मेरी मुँह में दे दिया और मैं उसके लंड को चूसने लगी हाथो से सोटने लगी। वो अअअअअ आआआ अअअअअ आआ ओह्ह्ह्हह करने लगाए मैं चुपचाप उसके लंड को अपने कंठ तक ले जाती फिर बाहर करती।

मैं तो रहा नहीं जा रहा था चूत की गर्मी बढ़ गए थी साँसे मेरी तेज हो गयी थी। अब रुके नहीं रुक पा रही थी मुझे अब लंड चाहिए थे। तो मैं बोली अब देर मत कर मैं तड़प रही थी। वो तुरंत ही निचे गया दोनों टांगो को अलग अलग किया। और अपना लंड मेरी चुत की मुँह पर लगाया और जोर से पेल दिया।

मैं कराह उठी। मैं दर्द से छटपटा गयी। मैं जन्नत में थी मजे लेने लगी। वो आगे पीछे अपने गांड को करने लगा और पूरा का पूरा लंड मेरी चूत में जाने लगा। ओह्ह्ह्ह मजा आ रहा था। गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी वो जोर जोर से पेलने लगा।

वो मेरी दोनों चूचियों को मसल रहा था कभी होठ चूसता कभी मेरी मुँह में अपना जीभ डालता। मैं उसके अपने ऊपर तैरते देखकर मजे लेने लगी। निचे से मैं धक्का देती ऊपर से वो धक्के देता। हम दोनों भाई बहन एक दूसरे को चुदाई में खुश कर रहे थे।

और करीब आधे घंटे की चुदाई में हम दोनों ही निढाल हो गए वो एक साइड गिर गया मैं पेअर फैला कर आँखे बंद कर सो गयी। मेरी चूत गीली थी क्यों की उसका वीर्य भी मेरी चूत में पड़ा था। हम दोनों ही चुदाई के नशे में थे तुरंत हो सो गए। आधे घंटे बाद फिर से वो मुझे चोदने लगा.

अब क्या दोस्तों जब भी मन होता है हम दोनों एक दूसरे को खुश कर देते हैं। आपको मेरी कहानी कैसी लगी ? दूसरी कहानी जल्द ही मैं अपने प्यारे दोस्तों को नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर सुनाऊँगी। तब तक लिए लिए आपको ढेर सारा प्यार।



Source link

0Shares

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *