मौसी की चुदाई मौसा के सामने-1

61762 03

Mausi Ki Chudai Mausa Ke Samne-1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम ऋषभ है और में रायपुर का रहने वाला हूँ। दोस्तों आप लोगों की तरह मैंने भी Hot Sex Story पर बहुत सारी देसी गरम कर देने वाली कहानियाँ पढ़ी है और मुझे हिन्दी में लिखी हुई कहानियाँ बहुत ज़्यादा मज़ा देती है। उनको में बहुत ध्यान से पढ़कर उनका पूरा पूरा मज़ा लेता हूँ। Mausi Ki Chudai Mausa Ke Samne.

दोस्तों आज में भी आप सभी को अपनी एक सच्ची चुदाई की घटना के बारे में बताने जा रहा हूँ। में इसको बस आप सभी के लिए इतनी मेहनत से लिख रहा हूँ और में उम्मीद करता हूँ कि इसको पढ़कर आप सभी को जरुर मज़ा आएगा, क्योंकि यह कोई फेक कहानी नहीं और मेरे जीवन का पहला सेक्स अनुभव है जिसके बाद में कभी नहीं रुका और चुदाई करता ही गया और आज भी कर रहा हूँ।

दोस्तों मेरी उम्र 28 साल है और में दिखने में ठीकठाक मेरा बदन गठीला और में बड़ा ही सुंदर लगता है। यह बात आज से करीब पांच साल पहले की है जब में 23 साल का था और में तब अक्सर अपनी मौसी के यहाँ पर कुछ दिन रहने के लिए चला जाता था, क्योंकि मुझे वहां पर खेलने मस्ती करने के लिए बहुत सारे दोस्तों के साथ साथ किसी भी तरह की अपनी मम्मी पापा का डर भी नहीं था

इसलिए मेरा बचपन से से वहां पर हमेशा मन लग जाया करता था और इस वजह से में अपनी मौसी के घर पर बहुत दिनों तक रुका करता था और मेरे वहां पर रुकने से मेरी मौसी मेरे मौसाजी को भी किसी भी तरह की कोई भी परेशानी नहीं थी और वो भी मुझे देखकर बड़ा खुश होते थे और मेरी मौसी हमारे शहर के पास वाले एक दूसरे शहर में रहती है।

दोस्तों मेरी मौसी के फिगर का आकार 36-28-34 है और उनकी गांड और बूब्स दिखने में इतने सेक्सी है कि एक बार देखने से ही किसी के भी लंड का पानी निकल जाए और मेरे मौसा जी एक व्यापारी है और वो अक्सर अपने काम की वजह से हमेशा दूसरे शहर में जाते रहते है। उनकी दो लड़कियाँ और एक लड़का है और उनकी बड़ी वाली लड़की की उम्र करीब 22 साल और छोटी वाली लड़की की उम्र 20 साल और उनके लड़के की उम्र 16 साल है।

दोस्तों मेरे मौसा जी उनकी पत्नी मतलब कि मेरी मौसी जी को बहुत प्यार करते है। में ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि वो कई बार दिन के समय ही अपने कमरे का दरवाज़ा बंद करके मौसी की चुदाई करने लगते है और ऐसा मैंने बहुत बार महसूस किया था इसलिए में आप सभी को यह बात बता रहा हूँ। दोस्तों एक बार वो गर्मियों के दिन की बात है, में और मेरी मौसी के सभी बच्चे उनके मकान के ऊपर वाले कमरे में सो रहे थे और मेरी मौसी, मौसाजी उस समय नीचे वाले कमरे में सो रहे थे।

फिर कुछ देर बाद मुझे बाथरूम जाने की इच्छा हुई जो नीचे उनके रूम के पास में था इसलिए में तुरंत उठकर नीचे आ गया, लेकिन तभी मुझे जब में उनके रूम के पास से निकल रहा था तो उस कमरे से कुछ आवाज़ सुनाई दी और मेरी अच्छी किस्मत से उस समय उनके कमरे की खिड़की थोड़ी सी खुली हुई थी। शायद उन दिनों ज्यादा गरमी होने की वजह से उन्होंने अपने कमरे की उस खिड़की को खोल दिया होगा।

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

फिर मैंने उस खिड़की से कमरे के अंदर झांककर देखा तो मेरी आखें वो मस्त सेक्सी द्रश्य देखकर फटी की फटी रह गई, क्योंकि मेरी मौसी बिल्कुल नंगी होकर कुर्सी पर बैठी हुई थी इसलिए मुझे उसके गोरे बड़े आकार के बूब्स लटकते हुए और चूत भी साफ साफ नजर आ रही थी। मौसी अपनी उभरी हुई चूत को अपने एक हाथ से सहलाते हुए वो अपने मुहं से सिसकियों की आवाज भी बाहर निकाल रही थी, वो वाह क्या मस्त सेक्सी नजारा था और वो सब देखकर मेरा लंड तो उसी समय तनकर खड़ा हो गया।                          “Mausi Ki Chudai”

वो अब पूरी तरह से जोश में आ चुका था और उधर मौसा जी अपने पजामे का नाड़ा खींचकर उसको नीचे उतार रहे थे और नाड़े के खींचते ही उनका लंड उनकी अंडरवियर से बाहर साफ साफ दिखने लगा था। तभी मौसी ने कहा कि क्यों अब कितनी देर लगाओगे मुझसे ज्यादा देर रुकना अब बड़ा मुश्किल है अब आप जल्दी से मेरी इस आग को बुझा दो। फिर इस पर मौसाजी ने बिना देर किए अपना अंडरवियर भी निकालकर बेड पर दूसरे कोने में फेंक दिया और अब उनका पांच इंच का लंबा लंड देखकर मुझे अपने चार इंच के लंड पर बहुत तरस आने लगा था,

क्योंकि वो उनके लंड से थोड़ा छोटा था, लेकिन मेरा लंड उनके लंड से मोटा कुछ ज्यादा था और अब मैंने देखा कि मेरे मौसा जी अपने लंड को अपने एक हाथ में लेकर उसको आगे पीछे करते हुए मौसी की तरफ आगे बढ़ने लगे थे और वहीं पास वाले स्टूल पर मौसाजी की सेविंग बनाने का सामान रखा हुआ था।

फिर मौसाजी ने उसमे से सेविंग क्रीम निकालकर मौसी के दोनों पैरों को कुर्सी पर पूरा फैलाकर उसको उनकी चूत पर लगा दिया। उसके बाद अपने उस ब्रश को पानी में डालकर गीला करके वो ब्रश को उनकी चूत पर घुमाने लगे थे और देखते ही देखते अब उनकी चूत बहुत सारे झाग की वजह से पूरी तरह से ढक चुकी थी।                                         “Mausi Ki Chudai”

फिर वो सब देखकर मेरा लंड बार बार मेरी अंडरवियर में ज़ोर मार रहा था और वो द्रश्य देखकर तो मेरा मन हो रहा था कि में भी उनके पास उस कमरे के अंदर चला जाऊं और अपने मौसाजी को उनकी जगह से हटाकर में खुद ही अपनी मौसी की चूत से खेलना शुरू कर दूँ। अब मौसाजी ने रेज़र निकालकर मौसी की चूत के बालों को साफ करना शुरू कर दिया और इस बीच मौसी अपने बूब्स को लगातार दबाए जा रही थी और वो द्रश्य देखकर उफफफफफ्फ़ में तो बहुत ही गरम हो रहा था।

फिर कुछ देर बाद बालों को काटने के बाद मौसाजी ने मौसी की चिकनी चमकदार चूत को अच्छी तरह टावल से साफ किया और अब मौसाजी बड़े आराम से ज़मीन पर नीचे बैठकर मौसी के दोनों पैरों पर और चूत पर किस करने लगे थे और उनकी जीभ लगातार मौसी की जांघो पर घूम रही थी। फिर उन्होंने मौसी के पेट को किस करना शुरू किया और उसके बाद अब उन्होंने चूत पर भी एक किस किया। अब उन्होंने अपनी जीभ को मौसी की चूत के दाने पर घुमाना शुरू कर दिया                                                   “Mausi Ki Chudai”

HotSexStory.xyz में कहानी पढ़ने के लिये आपका धन्यवाद, हमारी कोशिश है की हम आपको बेहतर कंटेंट देते रहे!

Leave a Reply

Your email address will not be published.